This are the symptoms of Bad mental health in children’s, Follow this tips for prevention | ये लक्षण बच्चों की खराब मेंटल हेल्थ का संकेत, माता-पिता ऐसे कर सकते हैं मदद

यदि कोई बच्चा किसी मानसिक स्वास्थ्य समस्या से पीड़ित है, तो उसके लिए किसी पर विश्वास करना आसान नहीं होता. माता-पिता या अभिभावक इसमें बड़ा बदलाव ला सकते हैं.

ये लक्षण बच्चों की खराब मेंटल हेल्थ का संकेत, माता-पिता ऐसे कर सकते हैं मदद

खराब मानसिक सेहत के हैं कई खतरे

Image Credit source: indian express

जाने-माने बॉलीवुड एक्टर कबीर बेदी ने अपने सबसे बड़े बेटे की आत्महत्या पर खुलकर बात की, जिसने डिप्रेशन की वजह से जान दी थी. बेदी ने अपनी लेटेस्ट ऑटोबायोग्राफी (आत्मकथा) ‘स्टोरीज़ आई मस्ट टेल’ में इस बात का जिक्र किया कि कैसे सिद्धार्थ की मौत ने उन्हें भावनात्मक तौर पर बुरी तरह तोड़ दिया और अपराध बोध से भर दिया. उन्होंने आजतक को दिए एक इंटरव्यू में कहा, “मैंने इस किताब में जो कुछ भी लिखा है दिल से लिखा है. मैंने अपने बुरे दौर के बारे में भी विस्तार से लिखा है. किसी ने भी इस पर आपत्ति नहीं की क्योंकि मैंने जो कुछ भी लिखा है वह सच है और वे यह बात जानते हैं. इसमें छिपाने जैसा कुछ भी नहीं है.”

दिल्ली के एक वरिष्ठ मनोचिकित्सक डॉ संजय चुघ ने TV9 से अपनी बातचीत में कहा, “बच्चों में मेंटल हेल्थ की समस्या पहचानना वयस्कों की तुलना में ज्यादा कठिन है. हालांकि ऐसे कई लक्षण हैं जिनपर माता-पिता या अभिभावक नजर बनाए रख सकते हैं.”

बच्चों में चेतावनी के संकेत

डॉ. चुघ ने कहा कि रेगुलर पैटर्न में असामान्य बदलाव मेंटल हेल्थ कंडीशन का एक संकेत है. “जब भी बच्चे की सामान्य आदतों या व्यवहार में कोई बदलाव देखें तो इसे हल्के में न लें. इनमें नींद के पैटर्न में बदलाव, भूख के पैटर्न में बदलाव, लोगों से कम घुलना मिलना, स्कूल न जाना, फोकस करने में मुश्किल और याददाश्त की समस्याएं शामिल हैं.” इन लक्षणों की पहचान करके समय पर समस्या का पता चल सकता है.”

उन्होंने कहा, “मैंने देखा है कि जब माता-पिता अंत में किसी प्रोफेशनल की मदद लेने का फैसला करते हैं, तब पता चलता है इन लक्षणों को कई सालों तक नजरअंदाज किया जा रहा था.”

यदि बच्चा सामान्य से ज्यादा उदास और रोता हुआ दिखाई देता है, तो यह भी एक संकेत है, गुस्सा और नखरे दिखाना भी खराब मानसिक स्वास्थ्य के संकेत हैं. एक्सपर्ट के मुताबिक जब कोई बच्चा मौत के बारे में बात करता है या खुद को चोट पहुंचाता है या इस बारे में बात करता है कि लाइफ कितनी खराब है तो ये गंभीर चेतावनी संकेत हैं कि बच्चा मानसिक समस्या से जूझ रहा है.”

मेंटल हेल्थ की समस्याओं से निपटने में माता-पिता बच्चे की मदद कैसे कर सकते हैं?

यदि कोई बच्चा किसी मानसिक स्वास्थ्य समस्या से पीड़ित है, तो उसके लिए किसी पर विश्वास करना आसान नहीं होता. माता-पिता या अभिभावक इसमें बड़ा बदलाव ला सकते हैं. डॉ चुघ ने कहा, “माता-पिता अपने बच्चे के व्यक्तित्व के साथ तालमेल बिठा सकते हैं. अगर ऊपर बताए गए लक्षणों में से कोई भी लक्षण नजर आता है, तो वे उस पर काम कर सकते हैं.”

उन्होंने कहा, “इस तरह की मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का एक प्रमुख कारण पारिवारिक माहौल है. बच्चे अपने माता-पिता को देखकर सीखते हैं और कई स्थितियों में उनके व्यवहार को दोहराते हैं.” हालांकि अच्छी बात यह है कि यदि माता-पिता अपने व्यवहार के तरीके में बदलाव लाते हैं, तो बच्चे भी इससे सीख सकते हैं और अपने व्यवहार में सुधार ला सकते हैं.

डॉ चुघ ने अंत में कहा, “किसी मनोचिकित्सक की मदद लेना बच्चे के मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने का सबसे अच्छा तरीका है.”

इस खबर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

हेल्थ की ताजा खबरें यहां पढ़ें

techo2life

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *