These Change in lifestyle can save you from heart attack | Heart Attack: लाइफस्टाइल करें ये बदलाव, हार्ट अटैक का खतरा होगा कम

Heart Attack: लाइफस्टाइल में अगर एक बदलाव किया जाए, तो दूसरी बार हार्ट स्ट्रोक के खतरे को कम किया जा सकता है. इस आर्टिकल में हम आपको एक शोध के आधार पर इससे जुड़ी जरूरी जानकारी देने जा रहे हैं.

Heart Attack: लाइफस्टाइल करें ये बदलाव, हार्ट अटैक का खतरा होगा कम

लाइफस्टाइल करें ये बदलाव, हार्ट अटैक का खतरा होगा कम

Image Credit source: Freepik

बीते कुछ समय से कम उम्र में हार्ट के आने के मामले तेजी से बढ़े हैं. इसके पीछे फिजिकल एक्टिविटी जैसे जिम में घंटों बिताना या फिर रनिंग के जरिए खुद को फिट रखना जैसे कारण अहम माने जा रहे हैं. हाल ही में एक्टर सिद्धांत सूर्यवंशी की मौत भी जिम में एक्सरसाइज के दौरान हुई थी. इस वजह से लोगों में जिम या फिजिकल एक्टिविटी को करने का क्रेज अब कम हो रहा है. वैसे लाइफस्टाइल में अगर एक बदलाव किया जाए, तो दूसरी बार हार्ट स्ट्रोक के खतरे को कम किया जा सकता है. इस आर्टिकल में हम आपको एक शोध के आधार पर इससे जुड़ी जरूरी जानकारी देने जा रहे हैं.

लाइफस्टाइल में करें ये बदलाव

एक नया शोध सामने आया है जिसके मुताबिक लाइफस्टाइल में एक बदलाव को करके दूसरी बार हार्ट अटैक के खतरे को कम किया जा सकता है. दरअसल, एक रिसर्च सामने आई है जिसमें बताया गया है कि हार्ट अटैक आने के बावजूद अगर दोबारा जिम का रूटीन फॉलो किया जाए, तो इससे दिल के दौरे के आने का खतरा कम हो जाता है.

हार्ट अटैक के खतरे को लेकर क्या कहता है शोध

रिसर्च के मुताबिक इसके लिए करीब 1100 वयस्कों का डाटा जमा किया गया. इनमें से सभी को 1990 से 2018 के बीच एक बाद दिल का दौरा आया था. इसमें औसत आयु 73 साल की थी. शोधकर्ताओं ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि जो लोग फिजिकली फिट हैं और इसके बाद भी रेगुलर एक्सरसाइज का रूटीन फॉलो करते हैं उनमें दिल का दौरा पड़ने का खतरा 34 फीसदी कम हो जाता है.

वर्कआउट में इन चीजों का रखें ध्यान

फिट रहने के लिए जिम का रूटीन फॉलो करना जरूरी है, लेकिन ये भी ध्यान रखें कि आपको हैवी वर्कआउट नहीं करना है. ये गलती फायदे के बजाय नुकसान पहुंचा सकती है. इसके अलावा वॉकिंग, स्वीमिंग, साइकलिंग, रनिंग जैसी एक्टिविटी को करके भी हार्ट अटैक से बचा जा सकता है. वहीं खानपान में बदलाव, धूम्रपान और शराब से दूरी जैसी बुरी आदतों को कम करने या छोड़ना भी जरूरी है.

techo2life

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *