Supreme court will hear same sex marriage matter notice to government | देश में समलैंगिक विवाह को मिलेगी मान्यता? सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से मांगा जवाब

सुप्रीम कोर्ट समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता देने के मामले का परीक्षण करने के लिए तैयार हो गया है. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है.

देश में समलैंगिक विवाह को मिलेगी मान्यता? सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से मांगा जवाब

सुप्रीम कोर्ट करेगा सुनवाई.

Image Credit source: TV9

समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता देने के लिए सुप्रीम कोर्ट में दाखिल याचिका पर शुक्रवार को सुनवाई हुई. यह सुनवाई चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली बेंच ने की. इस दौरान सुप्रीम कोर्ट समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता देने के मामले का परीक्षण करने के लिए तैयार हो गया है. सुप्रीम कोर्ट तय करेगा कि समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता दी जा सकती है या फिर नहीं. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. अटार्नी जनरल को भी नोटिस जारी किया गया है. सभी से चार हफ्ते में जवाब दाखिल करने को कहा गया है.

हैदराबाद के रहने वाले एक गे कपल की याचिका में कहा गया है कि समलैंगिक विवाह को भी स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत लाया जाना चाहिए. सुप्रीम कोर्ट ने कहा हाईकोर्ट भी तो मामले को सुन रहा है. इस पर वकील संजय किशन कौल ने कहा कि केरल हाईकोर्ट में दो साल से मामला लंबित है. यह जनहित का मसला है, क्योंकि यह संवैधानिक अधिकार का मसला है.

Gay Couple

हैदराबाद के गे कपल ने दायर की है याचिका.

याचिका लगाकर मांगा शादी का अधिकार

वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि यह नवतेज और पुट्टुस्वामी फैसले से संबंधित मसला है, जो अधिकारों से जुड़ा है. हम धर्म से जुड़े हिन्दू मैरिज एक्ट पर नहीं जा रहे. यही कह रहे हैं कि विशेष विवाह अधिनियम में यह स्पष्ट प्रावधान हो. हैदराबाद में रहने वाले दो समलैंगिक पुरुषों सुप्रियो चक्रवर्ती और अभय डांग की याचिका में कहा गया है कि अपनी पसंद के व्यक्ति से शादी करने का अधिकार LGBTQ+ नागरिकों को भी मिलना चाहिए. सुप्रियो और अभय की जोड़ी करीब 10 साल से एकसाथ है.

कही ये बात

याचिका में कहा गया है कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर के दौरान उन दोनों को कोविड-19 हो गया और जब वे ठीक हो गए, तो उन्होंने अपने रिश्ते का जश्न मनाने के लिए अपनी 9वीं सालगिरह पर शादी-सह-प्रतिबद्धता समारोह आयोजित करने का फैसला किया. उनका दिसंबर 2021 में एक प्रतिबद्धता समारोह था जिसमें उनके माता-पिता, परिवार और दोस्तों ने भाग लिया था. इसके बावजूद वे एक विवाहित जोड़े के अधिकारों का आनंद नहीं लेते हैं.

techo2life

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *