Rupee gains 30 paisa to close at 81.63 against dollar | बाजार की रिकॉर्ड ऊंचाई के बीच रुपया भी मजबूत, 30 पैसे सुधरकर हुआ बंद

डॉलर सूचकांक 0.19 प्रतिशत की गिरावट के साथ 105.87 रह गया. वहीं कच्चे तेल की कीमतों में भी गिरावट जारी है. इन संकेतों से रुपये को मदद मिली है

बाजार की रिकॉर्ड ऊंचाई के बीच रुपया भी मजबूत, 30 पैसे सुधरकर हुआ बंद

डॉलर के मुकाबले रुपये में मजबूती

विदेशी बाजारों में डॉलर के कमजोर होने तथा घरेलू शेयर बाजार में तेजी के बीच निवेशकों के बीच कारोबारी सेंटीमेंट्स मजबूत हुए जिसके चलते अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में बृहस्पतिवार को अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले रुपया 30 पैसे की तेजी के साथ 81.63 प्रति डॉलर के स्तर पर बंद हुआ. बाजार सूत्रों ने कहा कि अमेरिका के कमजोर आर्थिक आंकड़े और फेडरल रिजर्व के आक्रामक रवैये में नरमी के संकेत के बाद अंतरराष्ट्रीय कारोबार में डॉलर कमजोर हो गया. जिसका फायदा घरेलू करंसी को मिला है. वहीं शेयर बाजार में रिकॉर्ड स्तर से भी निवेशकों की भरोसा बढ़ा है.

कैसा रहा आज का बाजार

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 81.72 पर खुला. कारोबार के दौरान रुपया 81.60 के दिन के उच्चस्तर और 81.77 के निचले स्तर को छूने के बाद अंत में अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले 30 पैसे की तेजी के साथ 81.63 प्रति डॉलर पर बंद हुआ. अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया बुधवार को 26 पैसे की गिरावट के साथ 81.93 प्रति डॉलर पर बंद हुआ था. इस बीच, दुनिया की छह प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर की कमजोरी या मजबूती को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.19 प्रतिशत की गिरावट के साथ 105.87 रह गया. इससे रुपये को फायदा मिला है.

रुपये पर असर डालने वाले अन्य फैक्टर्स में वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड वायदा 0.32 प्रतिशत घटकर 85.14 डॉलर प्रति बैरल हो गया. वहीं, बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 762.10 अंक की तेजी के साथ 62,272.68 अंक पर बंद हुआ. शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई) पूंजी बाजार में शुद्ध बिकवाल रहे. उन्होंने बुधवार को 789.86 करोड़ रुपये के शेयर बेचे.

ये भी पढ़ें



डॉलर और क्रूड में कमजोरी से भारत को फायदा

डॉलर और क्रूड में कमजोरी से भारतीय अर्थव्यवस्था को फायदा मिलने की उम्मीद है. रुपये की मजबूती और कच्चे तेल में गिरावट से भारत का आयात बिल घटेगा इससे न केवल महंगाई दर पर असर पड़ेगा वहीं भारतीय खजाने को भी मजबूत होने में मदद मिलेगी. अगर यही सिलसिला जारी रहता है तो संभावना है कि देश में तेल की खुदरा कीमतें घट जाएंगी जिससे महंगाई पर लगाम लगाने में मदद मिलेगी.

techo2life

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *