Rajasthan Political Crisis Ajay Maken left his post Pilot group MLA of came out in support | राजस्थान में सियासी संग्राम, अजय माकन ने छोड़ा पद, समर्थन में उतरे पायलट कैंप के विधायक

सचिन पायलट कैंप के विधायक खिलाड़ी बैरवा और वेद प्रकाश सोलंकी ने 51 दिन बाद भी शांति धारीवाल, महेश जोशी और धर्मेंद्र राठौड़ पर कार्रवाई नहीं होने पर सवाल उठाए. पायलट कैंप के विधायकों ने कहा कि पार्टी आलाकमान को जल्द विधायक दल की बैठक बुलानी चाहिए.

राजस्थान में सियासी संग्राम, अजय माकन ने छोड़ा पद, समर्थन में उतरे पायलट कैंप के विधायक

अजय माकन के समर्थन में उतरे पायलट कैंप के विधायक

Image Credit source: PTI

कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अजय माकन की ओर से पद छोड़ने का पत्र वायरल होने के बाद एक बार फिर राजस्थान कांग्रेस की सियासत में हलचल तेज हो गई है. सचिन पायलट कैंप के विधायक खिलाड़ी लाल बैरवा और वेद सोलंकी का अजय माकन के समर्थन में बयान सामने आया है, जहां पर दोनों विधायकों का कहना है कि 51 दिन के बाद भी शांति धारीवाल, महेश जोशी और धर्मेंद्र राठौड़ पर कार्रवाई नहीं होने से आहत होकर अजय माकन ने पद छोड़ने का पत्र कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को लिखा है. माना जा रहा है कि अजय माकन के पद छोड़ने के बाद आने वाले दिनों में राजस्थान कांग्रेस की सियासत में कई और नए सियासी घटनाक्रम सामने आ सकते हैं.

इधर सचिन पायलट कैंप के विधायक खिलाड़ी बैरवा ने कहा कि कांग्रेस आलाकमान को अब बिना इंतजार किए दोबारा से विधायक दल की बैठक बुलानी चाहिए जो भी फैसला लेना चाहते हैं वो भारत जोड़ो यात्रा के प्रवेश से पहले होना चाहिए. बैरवा ने कहा कि अजय माकन ने 25 सितंबर की घटना से आहत होकर अपने पद से इस्तीफा दिया है. प्रभारी होने के नाते अजय माकन खुद आलाकमान है और उन्हीं की सिफारिश पर महेश जोशी, शांति धारीवाल और धर्मेंद्र राठौड़ को कारण बताओ नोटिस जारी किए गए थे लेकिन 51 दिन के बाद भी उन लोगों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई जिससे आहत होकर उन्होंने अपना पद छोड़ दिया है. खिलाड़ी बैरवा ने कहा कि कांग्रेस के 92 विधायकों ने भी विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी को अपने इस्तीफे सौंप रखे हैं, इस मामले में भी देशभर में कांग्रेस का मजाक बन रहा है.

राहुल गांधी को तुरंत फैसला लेना चाहिए

बैरवा ने कहा कि राजस्थान विधानसभा के चुनाव में 1 साल का समय बचा है और राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा राजस्थान में टर्निंग प्वाइंट साबित होगी लेकिन अपनी यात्रा से पहले राहुल गांधी को राजस्थान में तुरंत फैसला लेना चाहिए और विधायक दल की बैठक बुलाकर हर एक विधायक से अलग-अलग बात करनी चाहिए. कांग्रेस में जो भी कुछ चल रहा है उसे ठीक करना चाहिए. उन्होंने कहा कि आज राजस्थान के कांग्रेस कार्यकर्ता असमंजस की स्थिति में है, कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और नेताओं में जोश का संचार तभी होगा जब राजस्थान में चल रहे मामलों का निपटारा किया जाए और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ही यह सब कर सकते हैं.

टिकटेक खिलाड़ी लाल बैरवा

वहीं सचिन पायलट कैंप के ही ही विधायक वेद प्रकाश सोलंकी ने कहा कि अजय माकन ने 25 सितंबर की घटना से आहत होकर अपने पद से इस्तीफा दिया है. 25 सितंबर को कांग्रेस विधायक दल की आधिकारिक बैठक बुलाई गई थी. दिव्या मदेरणा, जाहिदा खान, चौधरी वीरेंद्र सिंह, परसराम मोरदिया, रीटा चौधरी जैसे विधायकों के परिवारों ने कांग्रेस को सींचा है, उन परिवारों से आने वाले विधायक कांग्रेस विधायक दल की बैठक में शामिल हो गए जिनकी कांग्रेस में आस्था थी लेकिन 92 विधायकों ने समानांतर विधायक दल की बैठक चलाई.

आहत होकर माकन ने छोड़ा पद

उसी से आहत होकर अजय माकन जैसे व्यक्ति ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया, जबकि अजय माकन ऐसे व्यक्ति हैं, जिन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को राजनीतिक नियुक्तियों में सम्मान दिलाया और वो सभी को साथ लेकर चलने वाले व्यक्ति थे लेकिन उन्होंने जिन तीन लोगों पर कार्रवाई की सिफारिश की थी, 51 दिन के बाद उन लोगों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई उसी से आहत होकर अजय माकन ने पद छोड़ दिया है. गौरतलब है कि राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी अजय माकन का पत्र इन दिनों वायरल हो रहा है जिसमें उन्होंने 25 सितंबर की घटना का जिक्र करते हुए राजस्थान से खुद को अलग करने की मांग कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे से की है.

techo2life

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *