Patna news PFI Islamic Translation Centre portal BUSTED by Bihar police recruiting for Jihadi media | जिहादी मीडिया के लिए भर्ती कर रही PFI, बिहार पुलिस ने ट्रैक की वेबसाइट

पुलिस के मुताबिक वेबसाइट में इस समय एक स्लोगन लगाया है. इसमें कहा गया है कि जो भी मुस्लिम भाई बहन जिहादी मीडिया वर्क में सहयोग करना चाहते हैं, वह बतौर ट्रांसलेटर इसमें जुड़ सकते हैं. इसमें सभी भाषाओं के जानकार लोगों को जरूरत है.

जिहादी मीडिया के लिए भर्ती कर रही PFI, बिहार पुलिस ने ट्रैक की वेबसाइट

सांकेतिक तस्वीर

बिहार पुलिस ने प्रतिबंधित संस्था पीएफआई की वेबसाइट इस्लामिक ट्रांसलेशन सेंटर को ट्रैक कर लिया है. इस वेबसाइट पर जिहादी मीडिया के लिए इन दिनों युवाओं की भर्ती हो रही है. इसमें विभिन्न भाषाओं के जानकार मुस्लिम युवाओं को आवेदन करने के लिए कहा गया है. बिहार पुलिस की गुप्तचर एवं सुरक्षा शाखा की रिपोर्ट को देखने के बाद बिहार पुलिस ने राज्य में हाई अलर्ट जारी किया है. वहीं इसी रिपोर्ट के आधार पर आईजी (स्पेशल ब्रांच) ने सभी जिलों के पत्र लिखकर इस वेबसाइट से जुड़े लोगों को ट्रैक करने के निर्देश दिए हैं.

पुलिस के मुताबिक वेबसाइट में इस समय एक स्लोगन लगाया है. इसमें कहा गया है कि जो भी मुस्लिम भाई बहन जिहादी मीडिया वर्क में सहयोग करना चाहते हैं, वह बतौर ट्रांसलेटर इसमें जुड़ सकते हैं. इसमें सभी भाषाओं के जानकार लोगों को जरूरत है. कहा गया है कि इस वेबसाइट पर मुजाहिद उलेमा और उमरा के लेखों का अनुबाद किया जाएगा. बेबसाइट दावा करती है कि जिहादी मीडिया में रुचि रखने के लिए यह एक अनोखा मौका है. कहा गया है कि यह काम एक तरह से आधा जिहाद है. यहां काम करने से दूसरे मुस्लिम भाई बहनों को लाभ होगा.

किताब और पंपलेट भी उपलब्ध कराती है वेबसाइट

बिहार पुलिस की स्पेशल शाखा के अधिकारियों के मुताबिक केवल भर्ती ही नहीं, यह वेबसाइट बिहार के मुस्लिम युवाओं को विभिन्न तरह की किताबें और पंपलेट आदि भी ऑनलाइन उपलब्ध कराती है. यह सारी सामग्री वेबसाइट पर उपलब्ध है, लेकिन इसमें एक्सेस वीपीएन के जरिए ही संभव है. स्थिति का अंदाजा करते हुए आईजी स्पेशल शाखा ने बिहार के सभी एसपी और एसएसपी को वेबसाइट में काम कर रहे युवाओं को ट्रैक करने और उनकी पहचान कर उचित कार्रवाई करने को कहा है.

हाल ही में हुआ था वाट्सऐप ग्रुप का खुलासा

इससे पहले पटना पुलिस ने फुलवारी शरीफ माड्यूल का खुलासा किया था. यह माड्यूल विधिवत मुस्लिम युवाओं को जिहाद के लिए प्रशिक्षण देने का काम करता था. इसी माड्यूल से जुड़े लोग एक जिहादी वाट्सऐप ग्रुप का भी संचालन कर रहे थे, जिसका नाम गजवा ए हिन्द था. इस खुलासे के बाद पुलिस ने बड़े स्तर पर कार्रवाई की थी.

ये भी पढ़ें



भारत में बैन है पीएफआई

हाल ही में भारत सरकार ने इस्लामिक संस्था पीएफआई पर बैन लगा दिया था. जिहादी व देश विरोधी गतिविधियों के आरोप में सरकार ने संस्था पर बैन लगाते हुए इससे जुड़े दो सौ से अधिक लोगों की गिरफ्तारी हुई थी. केंद्र सरकार के इनपुट के मुताबिक यह संस्था मुस्लिम युवाओं को बरगलाकर उन्हें कट्टरपंथ की ओर धकेलने का प्रयास कर रही है.

techo2life

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *