Pakistan New Army chief Who is Asim Munir relations with India | कौन हैं पाकिस्तानी सेना के नए प्रमुख जनरल असीम मुनीर? और भारत के साथ कैसे हैं संबंध?

जनरल मुनीर पाकिस्तानी सेना की कमान ऐसे समय में संभालेंगे जब देश इमरान खान के नेतृत्व में तीव्र राजनीतिक उथल-पुथल और बिगड़ती आर्थिक स्थिति का सामना कर रहा है.

कौन हैं पाकिस्तानी सेना के नए प्रमुख जनरल असीम मुनीर? और भारत के साथ कैसे हैं संबंध?

पाकिस्‍तान के नए सेना प्रमुख असीम मुनीर.

Image Credit source: PTI

पाकिस्तान के अगले सेना प्रमुख के रूप में लेफ्टिनेंट जनरल असीम मुनीर की नियुक्ति से पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा सेना पर हमलों से भड़की आग कम होने संभावना नहीं है क्योंकि इस देश में अगले साल चुनाव होने वाले हैं. वर्तमान में पाक सेना के क्वॉर्टरमास्टर जनरल के रूप में सेवारत, जो सप्लाई डिवीजन के प्रभारी भी हैं, जनरल मुनीर सेना में सबसे वरिष्ठ जनरल हैं. इन्होंने मिलिटरी इंटेलिजेंस डायरेक्टर जनरल और जासूसी एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस के प्रमुख के रूप में सेवा की है. जनरल मुनीर 29 नवंबर को अपना कार्यभार संभालेंगे. वे मौजूदा जनरल कमर जावेद बाजवा की जगह लेंगे. बाजवा का कार्यकाल छह साल का रहा. प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ की सरकार ने हाल ही में जनरल मुनीर को उनकी नई भूमिका में लाने के लिए कानून में संशोधन किया.

एक टीचर के बेटे जनरल मुनीर का पालन-पोषण रावलपिंडी में हुआ. वे मंगला में ऑफिसर्स ट्रेनिंग स्कूल के पूर्व छात्र हैं और उन्होंने अपनी पढ़ाई के दौरान प्रतिष्ठित ‘स्वॉर्ड ऑफ ऑनर’ पुरस्कार जीता. जनरल मुनीर 1986 में 23 फ्रंटियर फोर्स रेजिमेंट में नियुक्त हुए. वह ‘हाफिज-ए-कुरान’ भी हैं, जिसका अर्थ है कि उन्होंने इस पवित्र पुस्तक को कंठस्थ कर लिया है. इस्लामी परंपरा में, ‘हाफिज-ए-कुरान’ के लिए नरक हराम है. यह भेद संभवतः उन्हें सेना में धार्मिक रसूख देगा क्योंकि वह पाकिस्तान में सबसे शक्तिशाली पद की कमान संभालने वाले हैं. जनरल मुनीर पाकिस्तान के नेशनल डिफेंस यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट हैं. उन्होंने फूजी स्कूल, जापान और मलेशियाई सशस्त्र बल कॉलेज, कुआलालंपुर में भी पढ़ाई की है.

ऑपरेशन और इंटेलिजेंस का गहरा अनुभव

जनरल मुनीर को फील्ड ऑपरेशंस और इंटेलिजेंस का व्यापक अनुभव है. उन्होंने निवर्तमान सेना प्रमुख जनरल बाजवा के साथ सियाचिन में फोर्स कमांड उत्तरी क्षेत्र के ब्रिगेडियर के रूप में काम किया है. 2017 में उन्हें मिलिटरी इंटेलिजेंस के महानिदेशक के रूप में नियुक्त किया गया और अक्टूबर 2018 में उन्हें आईएसआई का प्रमुख बनाया गया था. हालांकि, इमरान खान के कहने पर उनका कार्यकाल छोटा रहा क्योंकि उन्हें आठ महीने के भीतर लेफ्टिनेंट जनरल फैज हामिद द्वारा उन्हें अचानक बदल दिया गया था. खबरों के मुताबिक, जनरल मुनीर ने पूर्व पीएम खान को उनकी पत्नी बुशरा बीबी के परिवार में भ्रष्टाचार के बारे में बताया था, जो पूर्व प्रधानमंत्री को अच्छा नहीं लगा था.

एक गैर-सियासी जनरल

अपने पहले के प्रमुखों के विपरीत जनरल मुनीर का कोई राजनीतिक जुड़ाव नहीं है. मीडिया रिपोर्टों ने उन्हें एक “उत्कृष्ट अधिकारी” और “पीपुल्स जनरल” के रूप में बताया है जो कानून के मुताबिक चलते हैं.

भारत के साथ संबंध

जनरल मुनीर उस समय आईएसआई के मुखिया थे जब 2019 में पुलवामा में आत्मघाती हमला हुआ था और जैश-ए-मोहम्मद ने अर्धसैनिक बल के चार दर्जन से अधिक जवानों को मार दिया था. इस हमले ने भारत और पाकिस्तान को एक दूसरे के साथ युद्ध के करीब ला दिया था. एक रिपोर्ट के अनुसार, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने जनरल मुनीर से विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई के लिए बात की थी, जिनके विमान को ‘ऑपरेशन बालाकोट’ के दौरान पाकिस्तान में मार गिराया गया था.

मुनीर के लिए चुनौतियां

जनरल मुनीर पाकिस्तानी सेना की कमान ऐसे समय में संभालेंगे जब देश इमरान खान के नेतृत्व में तीव्र राजनीतिक उथल-पुथल और बिगड़ती आर्थिक स्थिति का सामना कर रहा है. जनरल मुनीर के सामने सेना की विश्वसनीयता बहाल करने का कठिन कार्य है, जो इमरान खान की सरकार को हटाने के बाद बुरी तरह प्रभावित हुआ है. जनरल मुनीर के लिए सबसे बड़ा काम सेना को देश के राजनीतिक मामलों में दखल देने से बचाना है. राजनीतिक अनिश्चितता के बीच जनरल मुनीर को अपना नया पद संभालने के लिए अधिक समय नहीं मिलेगा. देश में मचे उथल-पुथल को देखते हुए उन्हें राजनीतिक मामलों में पड़ने का प्रलोभन भी काम कर सकता है.

ये भी पढ़ें



इस खबर को इंग्लिश में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें: Explained: Who is Gen Asim Munir, the new chief of the Pakistan Army?

techo2life

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *