New Kiwira virus found in bats Similar pathogens kill up to one in three humans | एक और नया वायरस मिला… चमगादड़ में किविरा वायरस की पुष्टि, जानिए यह कितना जानलेवा?

तंजानिया में 334 चमगादड़ में से 6 और कॉन्गो गणराज्य में 49 में से 1 चमगादड़ में किविरा वायरस पाया गया है. आमतौर पर इस ग्रुप का वायरस जानवरों के मल-मूत्र और लार के सम्पर्क में आने पर इंसान में फैलता है.

एक और नया वायरस मिला... चमगादड़ में किविरा वायरस की पुष्टि, जानिए यह कितना जानलेवा?

अफ्रीकी देश तंजानिया और कॉन्‍गो गणराज्य के चमगादड़ में नया वायरस मिला है.

Image Credit source: News Medical

वैज्ञानिकों को अफ्रीकी देश तंजानिया और कॉन्गो गणराज्य के चमगादड़ में नया वायरस मिला है. इसका नाम किविरा वायरस (Kiwira Virus) है. यह हंतावायरस का एक प्रकार है. हंतावायरस आमतौर पर चूहों में पाया जाता है जो इनके जरिए इंसानों में फैलता है. इस ग्रुप के वायरस से संक्रमित मरीज में फ्लू जैसे लक्षण दिखते हैं. गंभीर मामलों में किडनी भी फेल हो सकती है.

किविरा वायरस के संक्रमण का मामला अब तक किसी इंसान में नहीं मिला है. शोधकर्ताओं का कहना है नया वायरस हंतावायरस के समूह से ताल्लुक रखता है. मरीज की हालत कितनी गंभीर होगी, यह उस वायरस के प्रकार पर निर्भर करता है. जैसे- अमेरिका में फैले हंतावायरस के प्रकार सिन नॉम्ब्रे वायरस से संक्रमित हर 3 में से एक मरीज की मौत हो जाती है. वहीं, प्यूजामाला वायरस के कारण हर 200 में से एक मरीज दम तोड़ देता है.

कितना खतरनाक है नया वायरस

नए वायरस पर रिसर्च करने वाली बर्लिन के सेंटर फॉर इंटरनेशनल हेल्थ प्रोटेक्शन की शोधकर्ता डॉ. सबरीना वीस का कहना है, जिन फ्री-टेल्ड चमगादड़ में यह पाया गया है वो सब-सहारा अफ्रीका में बड़ी संख्या में पाए जाते हैं.किविरा वायरस किस हद तक इंसानों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है, वैज्ञानिक इसका पता लगाने में जुटे हैं.

डेलीमेल की रिपोर्ट के मुताबिक, तंजानिया में 334 चमगादड़ में से 6 और कॉन्गो में 49 में से 1 चमगादड़ में किविरा वायरस पाया गया है. आमतौर पर इस ग्रुप का वायरस जानवरों के मल-मूत्र और लार के सम्पर्क में आने पर इंसान में फैलता है. इसके बाद यह एक इंसान से दूसरे इंसान में फैल सकता है.डॉ. सबरीना कहती हैं, जानवरों से जरिए इंसानों में फैलने वाले वायरस सामने आ रहे हैं. कोविड इसका सबसे बड़ा उदाहरण है.

नए वायरस से कितना डरने की जरूरत?

जून में विश्व स्वास्थ्य संगठन में रिपोर्ट जारी की गई थी, जिसमें कहा गया था कि इंसानों में वायरस पहुंचने का सबसे ज्यादा खतरा चमगादड़ों से है. साइंटिफिक एडवाइजरी ग्रुप फॉर द ओरिजिन ऑफ नॉवेल पैथोजेन्स (एसएजीओ) की रिपोर्ट में कहा गया है कि जूनोटिक वायरस इस बात का उदाहरण है कि कैसे जीवों से वायरस इंसानों में पहुंचा और तबाही मचाई.

अब अफीकी देश में मिला किविरा वायरस कितना खतरनाक है, इसकी जानकारी आनी बाकी है, लेकिन चमगादड़ से इसका कनेक्शन इंसानों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है. ऐसा इसलिए भी है क्योंकि यह वायरस जिस समूह से ताल्लुक रखता है वो हंतावायरस है. इसका संक्रमण किडनी फेल होने की वजह भी बन सकता है.

चमगादड़ में नया वायरस मिलने की बात ऐसे समय पर आई है जब ब्रिटेन में महामारी से निपटने के लिए बनाई गईं लैब को हटाने की बात कही गई है. हालांकि नया वायरस इंसानों के लिए कितना खतरनाक होगा इस पर रिपोर्ट आनी बाकी है.

ये भी पढ़ें



और पढ़ें- नॉलेज की स्टोरी

techo2life

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *