Iran football team sung national anthem fans cried pro government fans harassed them out side the stadium Iran vs wales Controversies Qatar FIFA World Cup 2022 Controversy News in Hindi | ईरान फुटबॉल टीम ने गाया राष्ट्र गान तो रोने लगे फैंस, स्टेडियम के बाहर मचा उतपात

Qatar FIFA World Cup Controversy: ईरान फुटबॉल टीम ने फीफा विश्व कप के अपने पहले मैच में राष्ट्रीय गान नहीं गाया था लेकिन दूसरे मैच में खिलाड़ियों ने राष्ट्रीय गान गाया, हालांकि इस दौरान स्टेडियम में कई फेंस रोते हुए दिखे.

ईरान फुटबॉल टीम ने गाया राष्ट्र गान तो रोने लगे फैंस, स्टेडियम के बाहर मचा उतपात

स्टेडियम में रोए ईरान के फैंस. (AFP Photo)

Iran vs wales Controversies: कतर में इस समय फीफा विश्व कप-2022 खेला जा रहा है. ये विश्व कप अभी तक उलटफेरों के लिए याद किया जा रहा है लेकिन विवादों का नाता भी इस विश्व कप से जुड़ा है. ईरान की टीम ने अपने पहले मैच में इंग्लैंड के खिलाफ राष्ट्रीय गान नहीं गया था. ईरान की टीम शुक्रवार को अपने दूसरे मैच में वेल्स के खिलाफ उतरी लेकिन इस मैच में टीम के खिलाड़ियों से राष्ट्रीय गान गाया. इस दौरान हालांकि स्टेडियम में ईरान के कई फैंस रोते हुए दिखे.

मैच से पहले सरकार का समर्थन कर रहे फैंस को उन लोगों को परेशान करते हुए देखा गया जो सरकार के विरोध में हैं. एहमद बिन अली स्टेडियम में ईरान के कुछ फैंस अपने देश का झंडा लेकर उन लोगों के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे जो देश में हो रहे आंदोलन के नारे’महिला,जिंदगी, आजादी’ की टीशर्ट पहन कर घूम रहे थे. वहीं जब महिलाएं स्टेडियम के बाहर मीडिया में इंटरव्यू दे रही थीं तब इस दौरान पुरुषों का छोटा समूह उनके खिलाफ ‘ईरान का इस्लामिक गणतंत्र जिंदाबाद’ के नारे लगा रहे थे.

डर गई थीं महिलाएं

इस दौरान कई महिलाएं काफी खौफ में देखी गईं क्योंकि ईरान की सरकार के समर्थक राष्ट्रीय झंडा लिए उन्हें घेरे हुए थे और उनको अपने फोन के कैमरे में कैद कर रहे थे. 35 साल की महिला जिसका नाम मरयम था, उनके पास कुछ पुरुषों ने हॉर्न बजाए क्योंकि वह अपने चेहरे पर ‘महिला, जिंदगी, आजादी’ का नारा पेंट करवा के आई थीं. 21 साल की वान्या जो कतर में रहती हैं, ने कहा कि वह ईरान वापस जाने से डर रही हैं. उन्होंने समाचार एजेंसी एपी ने उनके हवाले से अपनी रिपोर्ट में लिखा है, “मुझे यहां अपनी सुरक्षा की चिंता है.”

गुरुवार को ईरान के पूर्व फुटबॉल खिलाड़ी वोरिया घाफोरी को गिरफ्तार कर लिया गया था. कुछ फैंस उनके नाम की टोपियां पहने थे. उन्होंने कहा, “ये जाहिर सी बात है कि है कि मैच को इस सप्ताह राजनीतिक रूप दे दिया गया है. आप देख सकते हैं कि एक देश के लोग ही एक-दूसरे से नफरत कर रहे हैं.”

ये भी पढ़ें



इस कारण हुआ आंदोलन

दरअसल, ईरान में 16 सितंबर को 22 साल की माशा अमीनी की पुलिस हिरासत में मौत हो गई थी. इसके बाद पूरे देश में सरकार के विरुद्ध आंदोलन शुरू हो गए हैं. इसी कारण इन आंदोलनकारियों कि समर्थन में ईरान की फुटबॉल टीम ने फीफा विश्व कप के अपने पहले मैच में राष्ट्रीय गान नहीं गया था और जब राष्ट्रीय गान बजा था तो वह शांत खड़े थे.

techo2life

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *