IIT Madras Offshore Campus in Africa Name IIT Tanzania | अफ्रीका में होगा भारत का टॉप इंजीनियरिंग कॉलेज, नाम- IIT तंजानिया!

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने तंजानिया के मंत्री लीला मोहम्मद मूसा से मुलाकात की. उन्होंने तंजानिया और अफ्रीका के स्टूडेंट्स को भारत में आकर पढ़ने के लिए निमंत्रण भी दिया.

अफ्रीका में होगा भारत का टॉप इंजीनियरिंग कॉलेज, नाम- IIT तंजानिया!

आईआईटी मद्रास

Image Credit source: Facebook/IIT Madras

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी को अब ग्लोबल बनाने की तैयारी हो रही है. इसके लिए एक कैंपस अफ्रीकी देश तंजानिया में बनाया जाएगा. केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि तंजानिया में IIT अफ्रीका में टेक्नोलॉजी एजुकेशन के लिए एक केंद्र बन सकता है. धर्मेंद्र प्रधान ने तंजानिया के शिक्षा एवं व्यवसायिक प्रशिक्षण मंत्री लीला मोहम्मद मूसा से मुलाकात की. उन्होंने जांजीबार में एक स्किल सेंटर स्थापित करने का भी प्रस्ताव किया. समझा जाता है कि तंजानिया में IIT मद्रास का कैंपस स्थापित करने की बात सरकार के समक्ष है.

शिक्षा मंत्री ने ट्वीट किया, ‘भारत को आईआईटी प्रोजेक्ट को लेकर तंजानिया की सहायता करने में खुशी होगी. तंजानिया में आईआईटी अफ्रीका में टेक्नोलॉजी एजुकेशन का हब बन सकता है.’ उन्होंने कहा, ‘वह इस प्रोजेक्ट को लागू करने के लिये जरूरी सहयोग करने को आशान्वित हैं तथा जंजीबार में 21वीं शताब्दी का स्किल सेंटर स्थापित करने को इच्छुक हैं.’ शिक्षा मंत्री प्रधान ने भारत में पढ़ने के लिए अफ्रीकी छात्रों को निमंत्रण भी दिया है.

धर्मेंद्र प्रधान ने अपने ट्वीट में बताया कि लीला मोहम्मद मूसा ने शिक्षा एवं कौशल सहयोग को विविधतापूर्ण बनाने के लिए जरूरी सहयोग का आश्वासन दिया. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति भारत में शिक्षा के क्षेत्र में नए आयाम सृजित कर रही है. प्रधान ने कहा कि उन्होंने तंजानिया और अफ्रीकी छात्रों को भारत में पढ़ाई करने आने का आमंत्रण दिया.

IIT-Madras स्थापित करेगा कैंपस

दरअसल, जुलाई में खबर आई थी कि आईआईटी मद्रास तंजानिया में अपना कैंपस स्थापित करना चाहता है. उसका मकसद अपने संस्थान को दुनियाभर में स्थापित करना है. IIT Madras ने नेपाल और श्रीलंका को भी अपने यहां कैंपस स्थापित करने का आग्रह किया था. संस्थान का मकसद डाटा साइंस और एआई जैसे क्षेत्रों की पढ़ाई करवाना है.

आईआईटी मद्रास के डायरेक्टर वी कामाकोटी ने कहा था, ‘अभी प्रस्ताव अपने शुरुआती चरण में है. हम विदेशों में कैंपस स्थापित करने के लिए तरीके तैयार कर रहे हैं. हर देश की जरूरत के हिसाब से कोर्सेज ऑफर किए जाएंगे.’ यहां गौर करने वाली बात ये है कि विदेशों में स्थापित आईआईटी मद्रास के कैंपस में अंडरग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट दोनों ही कोर्सेज ऑफर किए जाएंगे.

ये भी पढ़ें



(भाषा इनपुट के साथ)

techo2life

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *