Gujarat news high court news Opposition the transfer of Justice Nikhil Karel strongly opposed the Chief Justice Advocates of Gujarat High Court | जज के ट्रांसफर से खफा वकील, बोले- ऐसा हुआ तो हो जाएगी गुजरात में न्यायिक स्वतंत्रता का अंत

विरोध का नेतृत्व कर रहे वरिष्ठ वकील मिहिर ठाकोर और आसिम पांडया ने कहा कि यह कोई सामान्य ट्रांसफर आर्डर नहीं है. बल्कि यह डंके की चोट पर न्यायिक स्वतंत्रता की हत्या है. वहीं एक अन्य वकील ने कहा कि यह ट्रांसफर चीफ जस्टिस से बात करने के बाद और उनकी सहमति से किया गया है.

जज के ट्रांसफर से खफा वकील, बोले- ऐसा हुआ तो हो जाएगी गुजरात में न्यायिक स्वतंत्रता का अंत

सांकेतिक तस्वीर

गुजरात हाईकोर्ट से जस्टिस निखिल करैल के ट्रांसफर पर बवाल शुरू हो गया है. गुरुवार को हाईकोर्ट बार के वकीलों ने चीफ जस्टिस की कोर्ट के बाहर इकट्ठा होकर प्रदर्शन किया और सुप्रीम कोर्ट कोलोजियम के इस फैसले का विरोध किया. वकीलों ने कहा कि केवल न्यूज रिपोर्ट के आधार पर जस्टिस करैल का ट्रांसफर कर दिया गया. वकीलों ने कहा कि यह तो सीधा सीधा घंटा बजाकर न्यायिक स्वतंत्रता की हत्या है. वकीलों ने इस ट्रांसफर आर्डर पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने का आग्रह किया है.

विरोध का नेतृत्व कर रहे वरिष्ठ वकील मिहिर ठाकोर और आसिम पांडया ने कहा कि यह कोई सामान्य ट्रांसफर आर्डर नहीं है. बल्कि यह डंके की चोट पर न्यायिक स्वतंत्रता की हत्या है. वहीं एक अन्य वकील ने कहा कि यह ट्रांसफर चीफ जस्टिस से बात करने के बाद और उनकी सहमति से किया गया है. कहा कि एक मामले की सुनवाई की लाइव स्ट्रीमिंग से संबंधित न्यूज रिपोर्ट के आधार पर यह कार्रवाई की गई है. उधर, दूसरी सुनवाई के बीच में ही कोर्ट ने सुनवाई की लाइव स्ट्रीमिंग को बंद कर दिया है.

विरोध में बुलाया बार की मीटिंग

मुख्य न्यायाधीश की कोर्ट के बाहर प्रदर्शन से पहले वकीलों ने जनरल बॉडी की मीटिंग बुलाई. दोपहर बाद करीब दो बजे हुई इस मीटिंग में मुद्दे पर गहन चर्चा हुई. इसमें फैसला लिया गया कि वकील इस फैसले की वापसी तक विरोध करेंगे. वकीलों ने इस मीटिंग में सुप्रीम कोर्ट के इस आर्डर के खिलाफ एक प्रस्ताव पास किया. इस आदेश में सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम ने जस्टिस निखिल का ट्रांसफर गुजरात से पटना हाईकोर्ट के लिए किया है.

ये भी पढ़ें



बार बेंच में टकराव की स्थिति

जस्टिस निखिल के ट्रांसफर को लेकर बार और बेंच में टकराव की स्थिति बन गई है. वकीलों ने इसका पुरजोर विरोध किया है. हाईकोर्ट के वकीलों ने चीफ जस्टिस के समक्ष विरोध जताते हुए कहा कि किसी हाल में इस अन्याय को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. वकीलों ने कहा कि केवल मीडिया रिपोर्ट पर इस तरह की कार्रवाई होना बेहद गलत और आपत्तिजनक है.

techo2life

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *