Gemstones Astrology Pearl Stone Benefits When And Why To Wear Moti According to The Zodiac Sign | Gemology Pearl Stone: ऐसे लोग भूलकर भी न पहनें मोती, फायदे की जगह हो सकता है नुकसान

कई बार देखा जाता है कि लोग शौक में बिना अपनी कुंडली का विश्लेषण कराए मोती रत्न को धारण कर लेते हैं. ऐसे में लोगों को लाभ के बजाय नुकसान होने लगता है.

Gemology Pearl Stone: ऐसे लोग भूलकर भी न पहनें मोती, फायदे की जगह हो सकता है नुकसान

मोती

Image Credit source: freepik

ज्योतिष शास्त्र में रत्नों का विशेष महत्व होता है. ऐसी मान्यता है कि रत्नों में कई तरह की सकारात्मक ऊर्जाएं होती हैं. वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार प्रत्येक ग्रह का संबंध किसा न किसी रत्न से अवश्य होता है. ज्योतिष में किसी जातक की कुंडली में अगर अशुभ ग्रहों का प्रभाव रहता है तो इनको शुभ बनाने के लिए रत्न धारण करने की सलाह दी जाती है. इसके अलावा कुंडली में शुभ ग्रहों को और ज्यादा शुभ परिणाम देने के लिए बाध्य करने के लिए रत्न धारण किया जाता है. ज्योतिष में रत्नों को धारण करने के नियम होते हैं हर कोई हर रत्न धारण न कर सकता। रत्नो को धारण करने से पहले किसी योग्य ज्योतिषी से सलाह अवश्य लेनी चाहिए.

रत्न ज्योतिष में 7 प्रमुख रत्नों का विशेष महत्व होता है. जिसमें माणिक्य, मोती, मूंगा, पन्ना, पुखराज, हीरा और नीलम प्रमुख हैं. इसके अलावा दो खास रत्न गोमेद और लहसुनिया भी होते हैं. कई बार देखा जाता है कि लोग शौक में बिना अपनी कुंडली का विश्लेषण कराए मोती रत्न को धारण कर लेते हैं. ऐसे में लोगों को लाभ के बजाय नुकसान होने लगता है. आज हम आपको मोती रत्न के बारे में ज्योतिषीय विश्लेषण करेंगे कि कब और किसे मोती रत्न धारण करना चाहिए और इसके क्या-क्या लाभ और नुकसान हो सकते हैं.

ज्योतिष में मोती रत्न का महत्व

जैसे की पहले बताया है कि ग्रहों का संबंध किसी न किसी रत्न से जरूर होता है. ऐसे में मोती चंद्रमा का रत्न माना गया है. जिन जातकों की कुंडली में चंद्रमा अच्छे भाव में विराजमान होते हैं, उन्हें मोती धारण करने की सलाह दी जाती है ताकि चंद्रमा का शुभ प्रभाव जातक को ज्यादा से ज्यादा मिल सके. मोती समुद्र की गहराईयों में पाया जाने वाला एक विशेष रत्न होता है यह सफेद और हल्के पीले रंग का होता है. मोती सबसे अच्छा मोती साउथ सी मोती को माना गया हैं. मोती को धारण करने से मन शांत और तनाव रहित होता है. जिन जातकों को रात में नींद नहीं आती उन्हें मोती पहनने की सलाह दी जाती है. मोती पहनने से व्यक्ति की आर्थिक उन्नति होती है.

किस उंगली में धारण करें मोती

वैसे तो किसी योग्य ज्योतिषी से कुंडली का अध्ययन करके ही मोती पहनना चाहिए. लेकिन ज्यादातर ज्योतिष के विद्वान मोती रत्न को चांदी की अंगूठी में दाए हाथ की सबसे छोटी उंगली में धारण करने की सलाह देते हैं.

इन लोगों को नहीं धारण करना चाहिए मोती

सभी को मोती रत्न शुभ फल दे ऐसा जरूरी नहीं होता है. अलग-अलग राशि के जातकों पर मोती का अलग-अलग प्रभाव देखने को मिलता है. रत्न ज्योतिष शास्त्र के अनुसार वृषभ, मिथुन, कन्या, मकर और कुंभ राशि के जातकों पर मोती का शुभ प्रभाव नहीं पड़ता है.

इन लोगों को मोती धारण करना शुभ होता है

वहीं कर्क, वृश्चिक और मीन राशि के जातकों पर मोती काफी शुभ फलदाई होता है. इन राशि के लोगों को मोती धारण करना बहुत शुभ माना जाता है. जिन राशि के स्वामी ग्रह के साथ चंद्रदेव की मित्रता होती है मोती पहनना हमेशा शुभ रहता है और जिन रासि के स्वामी ग्रह के साथ चंद्रदेव की शत्रुता रहती है उन्हें मोती नहीं धारण करना चाहिए.

मोती के साथ किन अन्य रत्नों को धारण करना शुभ और अशुभ

जो जातक मोती धारण करते हैं वें इनके साथ पीले पुखराज और मूंगा रत्न धारण कर सकते हैं. कभी मोती के साथ नीलम और गोमेद नहीं पहनना चाहिए. शनि, राहु के साथ हमेशा चंद्रदेव की शत्रुता रहती है. पुरुषों को कम से कम 7.25 रत्ती मोती धारण करना चाहिए जबकि महिलाओं को 4.25 रत्ती मोती धारण करना चाहिए.

इस परिस्थितियों में न धारण करें मोती

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सिंह लग्न के जातकों को मोती नहीं पहनना चाहिए क्योंकि सिंह लग्न वालों के लिए चंद्रमा उनकी कुंडली में 12 वें भाव के स्वामी होते हैं. इसके अलावा जिन जातकों की कुंडली कुंभ और वृष लग्न की है उन्हें भी मोती नहीं पहननी चाहिए. इससे आपके ऊपर शत्रु हावी हो सकते हैं. दांपत्य जीवन में परेशानियां पैदा हो सकती हैं और जातक को हमेशा अज्ञात भय बना रह सकता है.

मोती रत्न धारण करने के नियम

रत्नों का चुनाव करने के साथ उसे धारण करने के भी नियम होते हैं. मोती को धारण करने के लिए शुक्ल पक्ष के सोमवार की रात क चुनाव करना शुभ होता है. इसके अलावा पूर्णिमा की रात को भी मोती धारण कर सकते हैं. मोती को धारण करने से पहले गंगाजल से धोकर भगवान शिव को अवश्य करें. ऐसा करने से ज्यादा से ज्यादा शुभ फल की प्राप्ति होती है.

techo2life

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *