Fresh tension in Meghalaya as police vehicles attacked internet suspended | मेघालय में फिर भड़की हिंसा, प्रदर्शनकारियों ने 3 पुलिस वाहनों में लगाई आग, इंटरनेट बंद

22 नवंबर को असम-मेघालय सीमा पर हुई हिंसा के विरोध में कैंडललाइट जुलूस का आयोजन किया गया था. इसी दौरान प्रदर्शनकारियों ने इस घटना को अंजाम दिया.

मेघालय में फिर भड़की हिंसा, प्रदर्शनकारियों ने 3 पुलिस वाहनों में लगाई आग, इंटरनेट बंद

मेघालय में फिर भड़की हिंसा

Image Credit source: social media

मेघालय में इस समय हालात अच्छे नहीं है. स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है. गुरुवार शाम को एक बार फिर प्रदर्शनकारियों ने राजधानी शिलॉन्ग में एक ट्रैफिक बूथ में आग लगा दी. इसके साथ ही एक सिटी बस सहित तीन पुलिस वाहनों पर हमला कर दिया. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, कुछ समूहों द्वारा आयोजित कैंडललाइट जुलूस के दौरान यह घटना हुई. 22 नवंबर को असम-मेघालय सीमा पर हुई हिंसा के विरोध में कैंडललाइट जुलूस का आयोजन किया गया था. इसी दौरान प्रदर्शनकारियों ने इस घटना को अंजाम दिया.

इस हालिया घटना में प्रदर्शनकारियों ने कथित तौर पर पुलिस बलों पर पत्थर और पेट्रोल बम फेंके. इसके जवाब में सुरक्षाकर्मियों ने भी प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे. घटना की जानकारी देते हुए ईस्ट खासी हिल्स, शिलॉन्ग के एसपी एस नोंगटंगर ने एएनआई को बताया कि इस घटना में एक सिटी बस और एक जिप्सी सहित तीन पुलिस वाहन क्षतिग्रस्त हो गए. एसपी ने कहा, ‘उपद्रवियों ने शहर में एक ट्रैफिक बूथ में आग लगा दी और पुलिसकर्मियों पर पेट्रोल बम फेंके.’

7 जिलों में इंटरनेट सेवा 48 घंटे के लिए बाधित

वहीं, राज्य में भड़की हिंसा के मद्देनजर मेघालय सरकार ने 7 जिलों में मोबाइल इंटरनेट और डेटा सेवाओं के निलंबन को और 48 घंटों के लिए बढ़ा दिया है. पश्चिम जयंतिया हिल्स, पूर्वी जयंतिया हिल्स, पूर्वी खासी हिल्स, री-भोई, पूर्वी पश्चिम खासी हिल्स, पश्चिम खासी हिल्स और दक्षिण पश्चिम खासी हिल्स जिलों में इंटरनेस सस्पेंशन को 48 घंटे के लिए बढ़ाया गया है. गुरुवार को सुबह 10.30 बजे से इन जिलों में इंटरनेट बाधित है.

शिलॉन्ग में कानून व्यवस्था की स्थिति गंभीर

सनबीर सिंह नाम के यूजर ने ट्वीट कर कहा, ‘शिलॉन्ग में कानून व्यवस्था की स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही है. असम पुलिस के साथ गोलीबारी की घटना में मेघालय के 5 निवासियों की मौत के विरोध में आज शाम कैंडललाइट जुलूस हिंसक हो गया. ऐसा लगता है कि शिलांग के सिविल अस्पताल में गुंडों ने तोड़फोड़ की है.’

अमित शाह ने दिया केंद्रीय एजेंसी से जांच कराने का आश्वासन

वहीं, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गुरुवार को इस मामले की जांच केंद्रीय एजेंसी से कराने का आश्वासन दिया है. इस बात की जानकारी मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने दी. उन्होंने कहा कि आज हमारी मुलाकात गृह मंत्री अमित शाह से हुई. मुकरोह में असम पुलिस के तरफ से हुई फायरिंग में 6 लोगों की जान चली गई. घटना के बारे में हमने गृह मंत्री को जानकारी दी है.

संगमा ने आगे कहा कि हमने उनसे मांग की है कि जिनकी मृत्यु हुई है उन्हें न्याय मिलना चाहिए और केंद्रीय एजेंसी द्वारा जांच करानी चाहिए. जो लोग इसके लिए जिम्मेदार हैं उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए. उन्होंने हमारी बात सुनी और जल्द ही केंद्रीय एजेंसी की जांच होगी.

मंगलवार सुबह भड़की थी हिंसा, 6 की हुई थी मौत

असम-मेघालय सीमा पर स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है और इलाके में बड़ी संख्या में सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं. हिंसा स्थल और आसपास के इलाकों में सीआरपीसी की धारा 144 लागू है. बता दें कि मंगलवार तड़के असम के वन कर्मियों द्वारा अवैध रूप से काटी गई लकड़ियों से लदे एक ट्रक को रोके जाने के बाद असम-मेघालय सीमा पर हिंसा हुई थी, जिसमें एक वन रक्षक समेत छह लोगों की मौत हो गई थी.

techo2life

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *