Bihar begusarai news thieves made tunnels and blew up engines parts railway did not news au213 | चोरों ने सुरंग बना उड़ा दिए 30 करोड़ के इंजन पार्ट्स, रेलवे को कानों कान नहीं लगी खबर

बिहार के बेगूसराय में चोरों ने सुरंग बनाकर 16 इंजन के 30 करोड़ की कीमत के पार्ट्स चोरी कर लिए. मामला सामने आने के बाद रेलवे में हड़कंप मच गया है.

चोरों ने सुरंग बना उड़ा दिए 30 करोड़ के इंजन पार्ट्स, रेलवे को कानों कान नहीं लगी खबर

चोरों ने सुरंग बना उड़ा दिए 30 करोड़ के इंजन पार्ट्स

कभी दिनदहाड़े पुल की चोरी फिर पूर्णिया में विंटेज मीटर गेज स्टीम इंजन को बेचने के बाद अब बिहार में यार्ड तक सुरंग बनाकर 30 करोड़ के 16 इंजन के पार्टस चुरा लेने का मामला सामने आया है. बिहार के बेगूसराय में चोरों ने सुरंग बनाकर इंजन को चुरा लिया. यहां गरहारा यार्ड में मरम्मत के लिए लाए गए ट्रेन के पूरे डीजल इंजन पार्टस पर चोरों ने हाथ साफ कर दिया.इस हैरान करने वाली चोरी के बारे में बताया जा रहा है कि बरौनी के पास गड़हारा रेलवे यार्ड में खराब इंजन लगाया जाता है. इसके बाद खराब इंजन में लगे तांबा का वायर और एलुमिनियम के पार्ट्स को चोरी कर जिले के अलग-अलग कबाड़ कारोबारियों को बेच दिया करता था.

मामला सामने आने के बाद अब रेल पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की है. पुलिस ने अब गड़हारा के आसपास के इलाकों से तीन चोर को पकड़ा हैं. चोर चोरी की घटना को यार्ड के पास एक सुरंग बनाकर दे रहे थे. वह चोरी करने इसी के अंदर से आते थे और रेल इंजन के पार्टस को बोरियों में भरकर ले जाते थे

नेपाल भाग गया चोरों का सरगना!

गिरफ्तारी के बाद इस गिरोह के सरगना चंदन कुमार से पूछताछ के बाद पुलिस ने मुजजफ्फरपुर के प्रभात नगर कॉलोनी के मनोहर लाल साह के स्क्रैप गोदाम पर छापेमारी करके 13 बोरा रेलवे के इंजन पार्ट्स बरामद किया है. बताया जा रहा है कि जिन रेल इंजनों के पुर्जे चोरों गायब किए उनमें एक-एक इंजन की कीमत करीब 2 करोड़ है. चोरों ने कुल 16 इंजन के करीब 30 करोड़ के पुर्जे बेच दिए हैं.गड़हारा यार्ड में अब केवल इन इंजनों का ढांचा बचा है. इस अनोखी चोरी की घटना का सरगना मनोहर साह है. जो फरार है आशंका जताई जा रही है कि वह नेपाल भाग गया है

विंटेज मीटर गेज स्टीम इंजन बेचा

बेगूसराय रेल इंजन कांड से पहले बिहार के पूर्णिया में जहां चोरों ने एक विंटेज मीटर गेज स्टीम इंजन को बेच दिया था. इस इंजन को सार्वजनिक प्रदर्शन के लिए रेलवे स्टेशन पर रखा गया था. इस इंजन को रेलवे इंजीनियर ने समस्तीपुर डिवीजन के डिवीजनल मैकेनिकल इंजीनियर की तरफ जारी एक जाली लेटर के आधार पर बेच दिया था

techo2life

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *