Asim munir pakistan new army chief pulwama terrorist attack mastermind | अब और भड़केंगे पाकिस्तान के भारत से रिश्ते! कट्टरता में नंबर 1 है PAK का नया ‘बॉस’

जब 2019 में जम्मू कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमला हुआ था, उस समय वह पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के प्रमुख थे. ऐसे में पुलवामा हमले की साजिश रचने में भी उनके शामिल होने की बात आ चुकी हैं.

अब और भड़केंगे पाकिस्तान के भारत से रिश्ते! कट्टरता में नंबर 1 है PAK का नया 'बॉस'

पाकिस्तान में नया आर्मी चीफ नियुक्त.

पाकिस्तान की शहबाज शरीफ सरकार ने गुरुवार को नए सेना प्रमुख के नाम का ऐलान कर दिया है. लेफ्टिनेंट जनरल असीम मुनीर को नया आर्मी चीफ बनाया गया है. 29 नवंबर को कमर जावेद बाजवा के रिटायर होने के बाद असीम मुनीर पद पर काबिज होंगे. असीम मुनीर धार्मिक रूप से बेहद कट्टर माने जाते हैं. साथ ही जब 2019 में जम्मू कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमला हुआ था, उस समय वह पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के प्रमुख थे. ऐसे में पुलवामा हमले की साजिश रचने में भी उनके शामिल होने की बात आ चुकी हैं. इस लिहाज से उनके सेना प्रमुख बनने के बाद पाकिस्तान के भारत से रिश्तों में और दूरियां बढ़ सकती हैं.

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी, 2019 को सीआरपीएफ के काफिले पर हमला किया गया था. आतंकियों ने फिदायीन हमला करके विस्फोटक से भरी कार को सीआरपीएफ के काफिले से टकरा दिया था. इस भीषण ब्लास्ट में सीआरपीएफ के कई वाहन क्षतिग्रस्त हुए थे. इसमें 40 जवान शहीद हुए थे. इस दौरान पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के प्रमुख असीम मुनीर ही थे. माना जाता है कि जिस तरह से यह हमला किया गया था, वो आईएसआई के इशारे पर ही हुआ था.

कश्मीर की भौगोलिक जानकारी से वाकिफ

असीम मुनीर ने आईएसआई प्रमुख बनने से पहले उत्तरी क्षेत्र के कमांडर और मिलिट्री इंटेलीजेंस के डायरेक्टर जनरल का पद भी संभाला था. कहा जाता है कि उन्हें जम्मू कश्मीर की पूरी भौगोलिक जानकारी है. पाकिस्तान में असीम मुनीर को कश्मीर मामलों का बड़ा विशेषज्ञ भी माना जाता है. बताया जाता है कि असीम मुनीर ने इमरान खान को बहुत नाराज किया था. उन्होंने डीजीआईएसआई के रूप में तत्कालीन प्रधान मंत्री को खातून और उसके दोस्त के भ्रष्टाचार की सूचना इमरान खान को दी थी, जिसमें यह था बताया कि इन महिलाओं को कुछ काम करने के बदले उपहार के रूप में हीरे का हार मिला था और जिस पर उन्हें उनके पद से हटा दिया गया था.

ये भी पढ़ें



40 की उम्र में याद कर ली थी कुरान

हालांकि मुनीर सख्त पेशेवर, कट्टरवादी और धार्मिक है. उसके बारे में एक बाद भी मशहूर है कि उन्होंने 40 साल की उम्र में कुरान को कंठस्थ कर लिया था. पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार और विश्लेषक हामिद मीर ने दावा किया है कि पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान लेफ्टिनेंट जनरल असीम मुनीर को सेना प्रमुख नियुक्त नहीं करना चाहते हैं और उन्होंने ही असीम मुनीर को 2018 में डीजीआईएसआई के पद से हटाया था. जानकारी के मुताबिक निजी टीवी चैनल “जियो न्यूज” से बात करते हुए हामिद मीर ने कहा कि इमरान खान ने सेना प्रमुख की नियुक्ति को लेकर बयान दिया था कि इसपर हम पाकिस्तान के राष्ट्रपति के साथ मिलकर काम करेंगे.

techo2life

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *