Anwar Ibrahim will be the new Prime Minister of Malaysia, Sultan announced | मलेशिया के नए प्रधानमंत्री होंगे अनवर इब्राहिम, सुल्तान ने किया ऐलान

अनवर के प्रधानमंत्री बनने का रास्ता तब साफ हो गया, जब एकता सरकार के गठन के लिए विभिन्न छोटे दल उन्हें समर्थन देने के लिए तैयार हो गए.

मलेशिया के नए प्रधानमंत्री होंगे अनवर इब्राहिम, सुल्तान ने किया ऐलान

मलेशिया के नए प्रधानमंत्री अनवर इब्राहिम होंगे.

Image Credit source: AFP

मलेशिया के सुल्तान अब्दुल्ला सुल्तान अहमद शाह ने सुधारवादी विपक्षी नेता अनवर इब्राहिम को गुरुवार को देश का नया प्रधानमंत्री घोषित किया. इससे मलेशिया में खंडित जनादेश वाले आम चुनावों के बाद कई दिनों से जारी राजनीतिक अनिश्चितता का अंत हो गया. सुल्तान ने कहा कि अनवर को गुरुवार को ही प्रधानमंत्री पद की शपथ दिलाई जाएगी. आम चुनाव में अनवर के नेतृत्व वाले गठबंधन पाकतन हरपन (उम्मीदों के गठबंधन) को सर्वाधिक 82 सीटों पर जीत हासिल हुई थी.

हालांकि, यह गठबंधन सरकार गठन के लिए जरूरी 112 सीटों के आंकड़े से काफी पीछे रह गया था. चुनाव में पूर्व प्रधानमंत्री मुहीद्दीन के मलय-केंद्रित पेरिकटन नेशनल (राष्ट्रीय गठबंधन) को 73 सीटों पर जीत मिली थी. पैन-मलेशियन इस्लामिक पार्टी 49 सीटों पर जीत के साथ इस गठबंधन का सबसे बड़ा दल बनकर उभरी थी.

कई छोटे दलों ने किया अनवर का समर्थन

अनवर के प्रधानमंत्री बनने का रास्ता तब साफ हो गया, जब एकता सरकार के गठन के लिए विभिन्न छोटे दल उन्हें समर्थन देने के लिए तैयार हो गए. अनवर के प्रधानमंत्री बनने से मुहीद्दीन के शासन में मलेशिया के बढ़ते इस्लामिकरण को लेकर उपजी चिंताओं के दूर होने और शासन प्रणाली में सुधार की पहल की बहाल की उम्मीद जगी है.

वहीं, यूनाइटेड मलय नेशनल ऑर्गेनाइजेशन (यूएमएनओ) के नेतृत्व वाले गठबंधन के खाते में 30 सीट आईं, जिससे सत्ता की चाबी उसके हाथों में होने की बात कही जा रही थी. यूएमएनओ ने विपक्ष में बने रहने के अपने फैसले को पलटते हुए कहा था कि वह एकता सरकार के गठन के सुल्तान के प्रस्ताव पर विचार करेगी.

यूएमएनओ के पास थीं 26 सीटें

यूएमएनओ महासचिव अहमद मसलन ने कहा था कि पार्टी के सर्वोच्च निर्णय करने वाली संस्था ने अब एक ऐसी एकता सरकार का समर्थन करने का फैसला किया है, जिसका नेतृत्व मुहीद्दीन खेमे के हाथों में नहीं होगा. पार्टी किसी भी एकता सरकार को या सुल्तान द्वारा गठित अन्य स्वरूप की सरकार को स्वीकार करेगी. यूएमएनओ के पास 26, जबिक उसके नेतृत्व वाले गठबंधन के अन्य घटक दलों के पास चार सीटें हैं.

अब्दुल्ला सुल्तान ने एकता सरकार का रखा था प्रस्ताव

सुल्तान अब्दुल्ला सुल्तान अहमद शाह ने मंगलवार को एकता सरकार का प्रस्ताव रखा था, लेकिन मुहीद्दीन ने इस विचार को खारिज कर दिया था. इसके बाद सुल्तान ने तीसरे सबसे बड़े गुट, यूनाइटेड मलय नेशनल ऑर्गनाइजेशन (यूएमएनओ) के नेतृत्व वाले गठबंधन के सभी 30 सांसदों को बुधवार को अपने महल में बुलाया था. यूएमएनओ के राष्ट्रीय मोर्चा ने कहा था कि वह दोनों में से किसी भी नेता का समर्थन नहीं करेगा और विपक्ष में रहेगा.

(भाषा की रिपोर्ट)

techo2life

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *